Print Good Work Dt 05 Sept.2020

वादी नरेश चंद्र कुकरेती पुत्र श्री ललित मोहन कुकरेती निवासी प्रतीत नगर रायवाला देहरादून के द्वारा थाना हाजा पर एक लिखित तहरीर बाबत द्वारा कैलाशी विजन प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड नामक कंपनी के प्रबन्धको द्वारा प्राधिकृत न होने के बावजूद जनपद देहरादून व अन्य जनपद व राज्यो मे फर्जी तरीके से लोगो को गुमराह कर कम्पनी की ब्रांच खोलकर फर्जी खाते खोलकर लोगो से आरडी, एफडी व डेली डिपाजिट स्कीम व लोन देने के नाम पर लोगो से धोखाधडी करने के सम्बन्ध मे लिखित तहरीरी दी । इसके आधार पर थाना हाजा पर मु0अ0सं0-113/2020 धारा- 406,420 आईपीसी बनाम कमल भारती आदि पंजीकृत किया गया| उक्त कम्पनी के सम्बन्ध मे एसटीएफ ( आर्थिक अपराध शाखा) देहरादून द्वारा भी जांच की जा रही थी दौराने विवेचना व एसटीएफ की जांच मे पाया की 1- कमल भारती पुत्र हीरालाल भारती निवासी ग्राम इस्सेपुर थाना नजीबाबाद, जिला बिजनौर, उत्तर प्रदेश एवं 2- नसीबुद्दीन पुत्र हसमत अली निवासी जमनपुर, थाना सेलाकुई, देहरादून एवं अन्य के द्वारा जनवरी 2018 मे फर्जी तरीके व गलत तथ्यो के आधार पर कैलाशी विजन प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड नाम से करीब 23 ब्रांच खोली गयी, जिसमे से 13 ब्राचें देहरादून व 01 ब्रांच कोटद्वार व 05 ब्रांच नजीवाबाद व 03 ब्रांच मध्य प्रदेश मे खोली गयी थी, जिनमे करीब 9000/- ग्राहको के खाते खोलकर आरडी, एफडी व डेली डिपाजिट स्कीम व लोन के नाम पर कम्पनी ने करीब 28 करोड रूपये प्राप्त किये व कुछ ग्राहको को मैच्योरिटी की रकम भुगतान के बाद अधिकांश लोगो को उनकी रकम का भुगतान नही किया गया है, वर्तमान में कम्पनी लोगो की रकम देने मे असमर्थ है व कम्पनी के खाते वर्तमान मे कोई धनराशि शेष नही है।  वादी श्री नरेश कुकरेती द्वारा बताया गया की रायवाला ब्रांच मे कम्पनी के करीब 110 खाताधारको के 40 लाख रूपये की धनराशि नही लौटायी गयी है, उनका कम्पनी के प्रबन्धको से सम्पर्क नही हो पा रहा है तथा वह लोगो का पैसा धोखाधडी से प्राप्त कर भाग गये है। विवेचना /जांच के दौरान कम्पनी के विरुद्ध  प्राप्त तथ्यो के आधार पर बामुश्किल कम्पनी के प्रबंध निदेशक कमल भारती व निदेशक नसीबुद्दीन को पूछताछ हेतु  बुलाया व पूछताछ मे दोनो के द्वारा कम्पनी का  निदेशक होना बताया, दोनो व्यक्तियो द्वारा संयुक्त रूप से कम्पनी के खाते मे प्राप्त समस्त धनराशि का स्वयं आहरण कर विभिन्न जगह उपयोग करना बताया व कम्पनी के ग्राहको की करोडो रूपये की बकाया धनराशि देने मे असमर्थता जाहिर की व फर्जी कम्पनी के संचालन करने के सम्बन्ध मे माफी मांगी। उक्त दोनो  कंपनी के निदेशकों/ अभियुक्तो को थाना रायवाला पुलिस द्वारा बाद जांच व बयान सम्बन्धित मु0अ0स0 113/20 धारा 406/420/120बी भादवि0 के अन्तर्गत गिरफ्तार किया गया।


Published On: 05-09-2020